सौभाग्यवती योजना की मदद से उत्तराखंड की गर्भवती महिला व शिशु को मिलेगी फ्री किट

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana 2022 Details in Hindi: सरकार गर्भवती महिलाओं की देखभाल हेतु कई योजनाएं (Garbhvati Mahila Yojana) संचालित करती है। सरकारी अस्पतालों में बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं को सरकार के द्वारा इन योजनाओं का लाभ दिया जाता है। केंद्र सरकार के अलावा हर राज्य अपने अनुसार गर्भवती महिलाओं को भिन्न-भिन्न प्रकार के लाभ देता है। उत्तराखंड की सरकार भी महिला के प्रसव के बाद उसे सौभाग्यवती योजना से लाभान्वित करती है। इस योजना की मदद से जन्म देनी वाली महिला व उसके शिशु की साफ-सफाई और पोषण के लिए किट और कपड़े प्रदान किए जाते हैं। आइए उत्तराखंड की सौभाग्यवती योजना से जुड़े लाभ, उद्देश्य, पात्रता समेत अन्य जानकारी के बारे में जानते हैं।

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana 2022 Details in Hindi

योजना का नामसौभाग्यवती योजना
राज्यउत्तराखंड
योजना की घोषणा2021
लाभप्रसव के बाद आवश्यक सामग्री (Free Kit)
लाभार्थी महिला और शिशु
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)samast.mponline.gov.in

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana 2022 Online Apply, Application form, Documents, Benefits, Free Baby Kit Details

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana

सौभाग्यवती योजना क्या है? (Uttarakhand Saubhagyawati Yojana 2022)

उत्तराखंड की सरकार के द्वारा जन्म देनी वाली महिला व उसके शिशु की साफ-सफाई और पोषण को ध्यान में रखते हुए इस योजना को शुरू किया गया। योजना के अंतर्गत राज्य की गर्भवती महिलाओ और नवजात शिशुओं को अलग-अलग किट मुहैया करवाई जाती है। इस किट में स्थानीय पहनावे और मौसम के अनुकूल वस्त्र दिए जाते हैं। साथ ही महिला को पौष्टिक भोजन भी प्रदान किया जाता है। उत्तराखंड का मूलनिवासी व पात्रता रखने वाला परिवार ऑनलाइन आवेदन कर योजना का लाभ ले सकता है।

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana – उद्देश्य

गर्भवती महिला का प्रसव होने के बाद उसे व उसके बच्चे को कई तरह की आवश्यक सामग्री की जरुरत होती है। कई बार परिवार के लोग आनन-फानन में इन सामग्रियों की व्यवस्था नहीं कर पाते। समय पर नवजात व उसकी माता को ये आवश्यक सामग्री उपलब्ध हो और जच्चा-बच्चा स्वस्थ रहें इस उद्देश्य से उत्तराखंड सरकार के द्वारा सौभाग्यवती योजना को प्रारंभ किया। महिला प्रसव के बाद माता व शिशु को स्थानीय पहनावे और मौसम के अनुकूल वस्त्र, 250 बादाम गिरी, 500 ग्राम छुआरा समेत अन्य जरुरी सामग्री उपलब्ध करवाई जाती है। 

सौभाग्यवती योजना के अंतर्गत मिलने वाली सभी सामग्री (Free Kit List)

  • दो कॉटन गाउन/साड़ी/सूट
  • एक शॉल गर्म फुल साईज
  • एक तौलिया बड़े साइज
  • 1 स्कॉर्फ कॉटन/गर्म स्टैंडर्ड साइज
  • दो पैकेट सैनिटरी नैपकिन (आठ प्रति पैकेट)
  • 2 जोड़े बेड शीट (तकिये के कवर सहित)
  • दो जोड़े जुराब स्टैंडर्ड साइज
  • 250 बादाम गिरी/सुखी खुमानी/अखरोट
  • 500 ग्राम छुआरा
  • एक नेल कटर
  • 200 एम.एल हैण्डवाश लिक्विड
  • एक नारियल/तिल/सरसों/चुलू का तेल
  • दो कपड़े धोने का साबुन
  • दो नहाने का साबुन

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana – लाभ (Benefits)

  • मातृ मृत्यु दर (MMR) के साथ-साथ शिशु मृत्यु दर में कमी आएगी।
  • समय पर महिला व शिशु को जरूरी सामग्री उपलब्ध हो पायेगी।
  • महिला व शिशु के स्वास्थ्य और रहन-सहन में निश्चित रूप से बदलाव आएगा।

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana – पात्रता (Eligibility)

  • सिर्फ उत्तराखंड की गर्भवती महिलाएं ही इस योजना का लाभ लेने की पात्र हैं।
  • सरकारी अस्पताल में महिला का प्रसव होने पर ही लाभ दिया जाएगा।
  • केवल 18 वर्ष से ऊपर की गर्भवती महिलाएं ही पात्र होंगी
  • आयकर का भुगतान करने वाले सभी सरकारी कर्मचारियों के परिवार और आश्रितों को योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।

सौभाग्यवती योजना दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • गर्भवती महिला की आयु प्रमाण पत्र (जैसे जन्म प्रमाण पत्र या 10 वीं कक्षा की मार्कशीट)
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Uttarakhand Saubhagyawati Yojana Online Apply Detail (ऑनलाइन आवेदन)

यदि आप उत्तराखंड के निवासी हैं और Uttarakhand Saubhagyawati Yojana का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन (Online Apply) करना चाहते हैं, तो फिलहाल आपको थोडा इंतज़ार करना होगा। राज्य सरकार के द्वारा अभी इस योजना की सिर्फ घोषणा की गई है। योजना का क्रियान्वयन किस तरह से किया जाएगा, अभी इस पर कार्य चल रहा है। जैसे ही राज्य सरकार सौभाग्यवती योजना को प्रारंभ करती है इसकी जानकारी हमारी वेबसाइट Kisan Suchna पर जरूर दी जाएगी। योजना शुरू होने के बाद ही ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*