UP Sarkari Yojana 2021: मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना क्या है, पढ़ें योजना से जुड़े लाभ तथा उद्देश्य

UP Mukhyamantri Mahila Samarthya Yojana 2021: यूपी सरकार अपनी सरकारी योजनाओं (UP Sarkari Yojana 2021) के माध्यम से हर वर्ग को आर्थिक लाभ तथा रोजगार के नए अवसर पैदा करने की दिशा में काम कर रही है। प्रदेश की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का भी निरंतर प्रयास जारी है। उत्तर प्रदेश सरकार की ऐसी ही एक योजना है, मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना, जो महिलाओं को स्वावलंबी बनाकर उनकी आय में वृद्धि करने हेतु तैयार की गई है। आइए जानते हैं मुख्यमंत्री सामर्थ्य योजना क्या है, इस योजना के उद्देश्य और लाभ क्या हैं?

Contents:

UP Mukhyamantri Mahila Samarthya Yojana 2021 | मुख्यमंत्री सामर्थ्य योजना क्या है? | Objectives | Benefits | Detail in Hindi | UP Sarkari Yojana 2021

UP Mukhyamantri Mahila Samarthya Yojana 2021 Detail

योजना का नाममुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना
राज्यउत्तर प्रदेश
शुरुआत2021
लाभसूक्ष्म, लघु, मध्यम कुटीर उधोग का विकास कर नए रोजगार के अवसर पैदा करना
लाभार्थी उत्तर प्रदेश राज्य में सूक्ष्म, लघु, मध्यम कुटीर उधोग का संचालन करने वाली महिला
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)कोई जानकारी नहीं

मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य

UP Mukhyamantri Mahila Samarthya Yojana 2021: वर्ष 2021 में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बजट 2021-22 (UP Budget 2021-22) के दौरान मुख्यमंत्री सामर्थ्य योजना का ऐलान किया गया।  इस योजना के अंतर्गत महिला प्रधान सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उधमों के विस्तार के लिए प्रशिक्षण और अन्य डिजिटल सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाती हैं। मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना के लिए उत्तरप्रदेश सरकार ने 100 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है।

मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना का उद्देश्य

UP Mukhyamantri Mahila Samarthya Yojana Objectives: उत्तरप्रदेश में करीब 90 लाख से ज्यादा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उधम कार्यरत हैं, इनमें से अधिकतर महिला प्रधान उधम हैं। इस योजना का उद्देश्य महिला प्रधान सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों का विस्तार कर इनके जरिए महिलाओं को रोजगार मुहैया करवाना और उनके द्वारा तैयार किए गए उत्पादों के लिए बाजार उपलब्ध कराना है। प्रदेश के सभी 800 विकास खंडों में स्थानीय आर्थिक गतिविधियों के आधार पर संचालित गृह व कुटीर उद्योगों की समस्याओं को चिन्हित करते हुए उनका समाधान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना के लाभ

  • महिला उधमियों को अपने उधोग में विस्तार करने के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा।
  • प्रशिक्षण के अलावा महिला उद्यमियों के लिए सामान्य जागरूकता, परामर्श कार्यक्रम, एक्सपोजर विजिट, सेमिनार, और कार्यशाला कार्यक्रमों को आयोजित किया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत महिला कॉमन फैसिलिटी सेंटरों को स्थापित किया जाएगा।
  • कॉमन फैसिलिटी सेंटर में प्रदेश सरकार द्वारा 90% का व्यय भार वहन किया जाएगा।
  • सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उधम को पैकेजिंग, लेबलिंग, बारकोडिंग जैसी सुविधा मुहैया करवाई जाएगी।

योजना में शामिल होने की प्रक्रिया

मुख्यमंत्री महिला सामर्थ्य योजना शामिल से महिलाओं को जोड़ने हेतु दो स्तरीय समिति का गठन किया जाएगा। जिलाधिकारियों की अध्यक्षता में पहले स्तर की समिति बनाई जाएगी। वहीँ दूसरी समिति राज्य स्तरीय होगी। जिले स्तर पर बनाई गई समिति पात्र महिला समूहों व संगठनों को योजना का लाभ देने हेतु चिन्हित करेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*