Beshara Govansh Sahbhagita Yojana 2022: आवारा पशु / गाय पालने के लिए सरकारी योजना, जानें लाभ

UP Beshara Govansh Sahbhagita Yojana 2022: किसान, गरीबों, लड़कियों, छात्रों के हित में केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा कई योजनाओं का संचालन किया जाता है। इसके अलावा सरकार पशुओं को ध्यान में रखकर भी कई योजनाएं चलाती हैं। खासकर गायों के संरक्षण के लिए सरकार हमेशा प्रयासरत रहती है। गायों को ध्यान में रखते हुए हर राज्य कोई न कोई योजना चलाता है। उत्तर प्रदेश की सरकार के द्वारा निराश्रित व बेसहारा पशुओं के लिए बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना चलाई जाती है। इस योजना की मदद से राज्य सरकार आवारा व छुट्टा पशुओं की देख-रेख की जिम्मेदारी आम नागरिकों व किसानों को देती है, इसकी एवज में उन्हें आर्थिक मदद भी दी जाती है।

आवारा पशु / गाय पालने के लिए सरकारी योजना

बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना क्या है, इसके माध्यम से कितनी राशि लाभार्थी को दी जाती है, कौन-कौन योजना के ऑनलाइन आवेदन / Registration करने की पात्रता (Eligibility) रखता है। आइए उत्तरप्रदेश की बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जानते हैं।

Beshara Govansh Sahbhagita Yojana Details in Hindi

योजना का नामबेसहारा गोवंश सहभागिता योजना
राज्यउत्तर प्रदेश
योजना की शुरुआतवर्ष 2019
लाभआवारा पशु पालने पर आर्थिक मदद
लाभार्थी किसान व पशु पालक
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)जानकारी नहीं है

UP Beshara Govansh Sahbhagita Yojana 2022 | Registration, Online Apply | मुख्यमंत्री निराश्रित गाय भागीदारी योजना | Documents | मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना | यूपी बेसहारा गाय सहभागिता योजना आवेदन ऑनलाइन

Beshara Govansh Sahbhagita Yojana Registration

बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना क्या है?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 6 अगस्त 2019 को UP Beshara Govansh Sahbhagita Yojana 2022 को मंजूरी दी थी। इस योजना केमाध्यम से आवारा गाय-बैलों को पालने के लिए राज्य सरकार प्रतिदिन 30 रुपये देती है, यानी लाभार्थी व्यक्ति को एक महीने में 900 और वर्षभर में कुल 10 हजार 800 रुपये दिए जाएंगे। जब यह योजना शुरू हुई थी उस समय लाभार्थी को हर तीन माह में राशि दी जाती थी, लेकिन बाद में इसे एक माह कर दिया गया। यानी अब पशुपालकों को हर माह राशि बैंक खाते में दी जाती है।

राज्य सरकार के द्वारा इस योजना के लिए 1 अरब 9 करोड़ 50 लाख रुपए का बजट निर्धारित किया गया था। इस योजना को जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा लॉन्च किया गया था तब उन्होंने कहा था कि “यह योजना समाज के साथ-साथ देश के भविष्य को उज्ज्वल करने की प्रक्रिया का एक हिस्सा”।

Read Also:

हाई स्कूल विद्यार्थी यूपी फ्री लैपटॉप योजना हेतु करें Online Registration

[Form PDF] उत्तर प्रदेश (UP) भाग्यलक्ष्मी योजना 2022 ऑनलाइन फॉर्म रजिस्ट्रेशन

कन्या विद्या धन योजना छात्रवृत्ति, इसकी शुरुआत कब हुई?

UP Beshara Govansh Sahbhagita Yojana Objectives

योजना का उद्देश्य

राज्य में छुट्टा व आवारा पशुओं से किसान काफी परेशान रहते हैं। कई बार ये पशु खेतों में घुसकर फसल को ख़राब कर देते हैं। इसके अलावा ये पशु कई बार भीषण सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हो जाते हैं, जिससे इनकी मृत्यु भी हो जाती है। इन पशुओं को संरक्षण मिले और इनकी अच्छी तरह देख-रेख हो सके, साथ ही किसानों को भी खेती में कोई नुकसान का सामना ना करना पड़े इस उद्देश्य से उत्तर प्रदेश सरकार ने बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना को शुरू किया। योजना के अंतर्गत आवारा पशुओं को पालने के इच्छुक किसानों, पशुपालकों और अन्य व्यक्तियों को चिन्हित करने का कार्य जिला अधिकारी के द्वारा किया जाता है।

मुख्यमंत्री निराश्रित गाय भागीदारी योजना का लाभ (Benefits)

  • योजना के अंतर्गत लाभार्थी को आवारा बेसहारा पशुओं के संरक्षण के लिए प्रतिमाह 900/- रुपए दिए जाते हैं।
  • निराश्रित व बेसहारा पशुओं को सहारा मिलेगा और इनकी अच्छे से देख-रेख हो पायेगी। 
  • आवारा पशु यहां-वहां घूमते रहते हैं, जिससे लोगों को परेशानी होती है, संरक्षण मिलने पर ये यहां-वहां नहीं घूम पाएंगे।
  • किसानों की फसलों का इन आवारा पशुओं से नुकसान नहीं पहुंचेगा।
  • इन आवारा पशुओं को सभी पोषण मिल पाएगा।
  • पशुओं के साथ होने वाली सड़क दुर्घटना में कमी आएगी।
  • पशुओं के भरण-पोषण के लिए लाभार्थी को प्रतिमाह मिलने वाली राशि सीधा उसके बैंक खाते में जमा करवाई जाती है।
  • इससे लोगों द्वारा सामाजिक सहभागिता बढ़ेगी और आवारा व बिसहर मवेशियों की संख्या में कमी आएगी।
  • किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार से बचने के लिए पशुओं की ईयर टैगिंग भी की जाएगी।
  • आसानी से ऑनलाइन आवेदन कर आप बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना का हिस्सा बन सकते हैं।

मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना पात्रता (Eligibility)

  • UP राज्य का मूल निवासी नागरिक ही योजना के लिए आवेदन करने के पात्र होगा।
  • व्यक्ति को पशु पलने का अनुभव होना चाहिए।
  • पशुओं को पालने के लिए स्थान होना चाहिए।
  • एक लाभार्थी को केवल 4 गोवंश ही दिए जाएंगे, जिसमें नहीं जन्मे बछड़े की गणना नहीं की जाएगी।
  • योजना के अंतर्गत आवारा पशु को पालने पर आप उसे बेच नहीं सकते।
  • लाभार्थी के पास खुद का बैंक खाता होना चाहिए।
  • बैंक खाते से आधार कार्ड का लिंक होना अनिवार्य है।
  • जो व्यक्ति दुग्ध समितियों से जुड़े हैं, उन्हें प्राथमिकता दी जावेगी।

यूपी बेसहारा गाय सहभागिता योजना हेतु दस्तावेज (Documents)

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास प्रमाण
  • वोटर आइडी
  • मोबाईल नंबर
  • इमैल आइडी
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो

Beshara Govansh Sahbhagita Yojana 2022 Registration Form

ऐसे इच्छुक किसानों, पशुपालकों को इस योजना में शामिल करें जो छुट्टा पशुओं को पालने के इच्छुक हैं, वे फिलहाल योजना का लाभ लेने के लिए सिर्फ ऑफलाइन माध्यम से ही आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया को शुरू नहीं किया गया है। आने वाले समय में यदि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन/आवेदन (Online Apply Registration) करने की प्रक्रिया प्रारंभ होती है तो इसके बारे में आपको जानकारी जरूर दी जाएगी। योजना के लिए ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आप अपने जिले के जिलाधिकारी और मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी के ऑफिस में संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*