Farming Business Ideas in Hindi: सूअर पालन से करें 30 लाख तक की कमाई, लोन पर पाएं 95% सब्सिडी…

Farming Business Ideas- Pig Farming in India in Hindi: बेरोजगारी के बढ़ते स्तर को देखते हुए सरकार स्वरोजगार को बढ़ावा दे रही है। युवा अपना व्यापार शुरू कर स्वरोजगार को अपनाकर रोजगार हासिल करें, इस उद्देश्य से केंद्र सरकार कई प्रयास कर रही है। युवाओं को रोजगार देने के साथ सरकार किसानों और पशुपालकों की आय में इजाफा करने की कोशिश में भी लगी हुई है। सरकार व्यापार के लिए लोन पर 95 प्रतिशत तक की सब्सिडी भी दे रही है। यदि आप भी व्यापार करने की इच्छा रखते हैं और आपके पास कोई आईडिया (Business Ideas Hindi) नहीं है, तो हम आपको एक बिजनेस आइडिया बताने जा रहे हैं।

सूअर पालन विजनेस से आप हर वर्ष लाखों रुपए की कमाई (Profit in Pig Farming in India) कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हमारे द्वारा आपको सूअर पालन से सम्बंधित जानकारी दी जाएगी। यदि आप इस व्यापार से अच्छी कमाई करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

Pig Farming in India Detail in Hindi

Pig Farming in India in Hindi

सूअर पालन बिजनेस की जानकारी (Pig Farming Business Plan)

भारत में पशुपालन के क्षेत्र में सूअर पालन बिजनेस (Pig Farming in India in Hindi) को सरकार के द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है। सूअर पालन का बिजनेस बेहद कम लगत के साथ शुरू किया जा सकता है। आप इससे काम मेहनत के साथ ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। सरकार ख़ास सूअर पालन बिजनेस के लिए लोन सुविधा भी देती है। आपको 95 प्रतिशत तक की सब्सिडी भी दी जाती है, यानी मात्र 5 प्रतिशत पूँजी ही आपको अपनी जैब से निवेश करनी पड़ती है। सूअर की प्रजनन क्षमता अधिक होती है, मादा सुअर एक बार में कम से कम 5 से 14 बच्चों को जन्म देती है। जिस कारण बिजनेस कम समय में ही बढ़ने लगता है।

सूअर पालन के फायदे (Benefits of Pig Farming in India)

  • सुअर के मांस की डिमांड सालभर बनी रहती है।
  • कई लोग इसके मांस का सेवन करते हैं।
  • साथ ही  इसका प्रयोग केमिकल्स के रूप में सौन्दर्य उत्पाद व अन्य रसायनों में किया जाता है।
  • भारत के साथ ही अन्य देशों में भी सूअर के मांस की मांग रहती है।
  • सूअर के बालों से पेंटिंग ब्रश  समेत अन्य ब्रश का निर्माण किया जाता है। इस वजह से इसके बालों की भी बाजार में अच्छी खासी मांग है।
  • सूअर की चर्बी में जलेटिन होता है, इसका इस्तेमाल दवाइयां बनाने में किया जाता है।
  • इसके अपशिस्ट का इस्तेमाल खाद निर्माण में किया जाता है।
  • कम लगात के साथ आप अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।
  • इनके आहार पर भी हमें ख़ास खर्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ती।
  • हमारे द्वारा फेंके गए खराब खाने का सेवन भी सूअर कर लेते हैं।
  • मादा सूअर एक बार में कम से कम 5 से 14 बच्चों को एक साथ जन्म दे सकती है।
  • वर्ष में तीन बार मादा सूअर बच्चों को जन्म देती है।
  • एक बच्चा 8 से 9 माह में बड़ा हो जाता है, जिससे की जल्दी ही आपके पास सूअर की संख्या बढ़ जाती है।

सूअर पालन कैसे शुरू करें? 

किसान, पशुपालक व युवा सूअर पालन से कमाई करने की इच्छा रखते हैं, लेकिन उन्हें यह जानकारी नहीं रहती कि कैसे सूअर पालन बिजनेस को शुरू किया जाए। कितने खर्च के साथ आप सूअर पालन शुरू कर सकते हैं। यह सभी सवाल इस बिजनेस को शुरू करने से पहले उठते हैं।  सूअर पालन बिजनेस शुरू करने से पहले आप अच्छी तरह से सूअर की नस्लों के बारे में जानकारी एकत्रित कर लें। आपने आसपास सूअर से सम्बंधित उत्पाद की डिमांड के बारे में पता करें। सूअरों के पालन हेतु स्थान सुनिश्चित करें साथ ही उन्हें होने वाली बीमारी व उनसे बचाव की जानकारी भी आपको होना चाहिए। इस तरह से आप सूअर पालन बिजनेस के लिए अपना प्लान बना सकते हैं।

सूअर पालन लोन व सब्सिडी की जानकारी

यदि आप सूअर पालन का बिजनेस शुरू करने जा रहे हैं तो आप किसी भी सरकारी बैंको और नाबार्ड से आसानी से लोन प्राप्त कर सकते हैं। लोन पर ब्याज की वार्षिक दर 15 से 25 प्रतिशत तक रहती है, लेकिन यदि आप सूअर पालन योजना के अंतर्गत लोन के लिए आवेदन करते हैं तो आपको एक लाख रुपए राशि पर सब्सिडी दी जाती है। राज्यों के अनुसार अलग-अलग सब्सिडी निर्धारित है। हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय पशुधन मिशन के तहत यदि आप सूअर पालन का बिजनेस शुरू करते हैं तो आपको 95 प्रतिशत तक की सब्सिडी दी जाती है, लेकिन यह सब्सिडी सिर्फ बीपीएल कार्ड धारक को ही मिलती है। इसमें 90 प्रतिशत हिस्सेदारी केंद्र तथा 5 प्रतिशत प्रदेश सरकार द्वारा वहन की जाती है। यानी आपको सिर्फ 5 प्रतिशत राशि ही अपनी जैब से खर्च करनी पड़ती है।

सूअर पालन के लिए लोन

यदि आप सूअर पालन योजना की मदद से बिजनेस शुरू करने के लिए सब्सिडी के साथ लोन लेना चाहते हैं तो आपको आपने नजदीकी बैंक में संपर्क करने होगा। सूअर पालन योजना के लिए आवेदन हेतु ऑनलाइन प्रक्रिया नहीं है, इसलिए आपको बैंक के माध्यम से ऑफलाइन ही आवेदन करने की आवश्यकता होगी। आप सूअर पालन लोन के लिए नाबार्ड खेती परियोजना अधिकारी से भी संपर्क कर सकते हैं।

सूअर पालन लोन व सब्सिडी हेतु पात्रता व दस्तावेज

  • भारतीय नागरिक ही सूअर पालन योजना के अंतर्गत लोन व सब्सिडी लेने के पात्र होंगे।
  • लोन लेने वाले व्यक्ति की आयु 18 या इससे अधिक होनी चाहिए।
  • क्षेत्र के निगम अधिकारी से सूअर पालन बिजनेस शुरू करने की अनुमति लेना अनिवार्य है।
  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • जमीन सम्बंधित दस्तावेज
  • नगर निगम अधिकारी द्वारा जारी अनुमति पत्र

सूअर पालन से कमाई (Profit in Pig Farming in India)

साल भर सुअर के मांस व इसके बालों की डिमांड रहती है, जिस वजह से इससे आपकी कमाई अच्छी होती है। आप एक नर और एक मादा के साथ सूअर पालन शुरू कर सकते हैं। मादा सूअर एक बार में 5 से 14 बच्चे पैदा कर सकती है। बाज़ार में सूअर का एक बच्चा ढाई हजार रुपये में बिकता है, वहीँ विकसित सूअर की कीमत 8 हजार रुपये है। इस तरह से आप धीरे-धीरे स्थान व सूअर की संख्या में वृद्धि करते रहें। आप एक वर्ष में एक हजार सूअर का उत्पादन कर 30 लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*