{Registration} मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है? | Online Registration 2021-2022

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2021: देश के विभिन्न हिस्सों में इस समय भू-जल के स्तर में कमी देखने को मिल रही है। जैसा की हम सभी जानते हैं कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और कृषि करने हेतु पानी अति आवश्यक है। भू-जल का स्तर गिरने की वजह से किसान को खेती करने में समस्या का सामना करना पड़ रहा है। खेतों में अच्छी फसल के लिए पानी की जरुरत को पूरा करने हेतु पानी पर अधिक खर्च करना पड़ रहा है। यदि कोई किसान ट्यूबवेल को लगवाना चाहता है तो उसे अधिक गहराई तक खुदाई करने की जरूरत पड़ रही है। हरियाणा में भी पानी की कमी से किसानों की बुरी स्थिति है। हालाँकि केंद्र और राज्य सरकार किसानों के लिए नई-नई योजनाएं के द्वारा उन तक आर्थिक व अन्य लाभ पहुंचाती रहती है। हरियाणा सरकार ने भी पानी की कमी को देखते हुए आने राज्य के किसानों हेतु मेरा पानी मेरी विरासत योजना चला रही है। इस योजना के माध्यम से किसानों को आर्थिक मदद दी जाती है। मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है? कैसे Mera Pani Meri Virasat अधिकारिक पोर्टल (Official Website) के द्वारा online registration किया जा सकता है? आइए हरियाणा की इस सरकारी योजना के बारे में जानते हैं।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana Detail in Hindi

योजना का नाममेरा पानी मेरी विरासत योजना
राज्यहरियाणा
शुरुआत
लाभकिसानों को 7 हजार रुपए
लाभार्थी हरियाणा के किसान
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)यहाँ क्लिक करें

मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है | Mera Pani Meri Virasat Yojana online registration last date 2021 | हरियाणा Mera Pani Meri Virasat Yojana का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | अधिकारिक पोर्टल

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana

मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है?

हरियाणा राज्य में ज्यादातर लोग कृषि से अपनी आजीविका चलाते हैं। यहां अधिकतर क्षेत्र में कृषक धान की खेती करते हैं। धान की फसल में अन्य फसलों की अपेक्षा ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है। किसान धान की परंपरागत खेती के स्थान पर यदि अन्य फसल जैसे मक्का, अरहर, उड़द, कपास, बाजरा, मूंग की खेती करता है तो मेरा पानी मेरी विरासत योजना के माध्यम से उस किसान को 7,000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाती है। इसी के साथ सूक्ष्म सिंचाई पर भी 80% तक की सब्सिडी भी दी जाती है। हरियाणा सरकार द्वारा तय किए गए समय अन्तराल के अंतर्गत पात्र कृषकों से आवेदन मांगते हैं। जारी की गई निर्धारित समय सीमा के अंतर्गत आवेदन करने पर ही किसान को हरियाणा की मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ मिलता है। यह भी पढ़ें: हरियाणा पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना क्या है?

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना का उद्देश्य

दिनोंदिन हरियाणा में पानी का आकाल पड़ता जा रहा है। राज्य के कृषक धान की खेती पर अधिक विश्वास करते हैं, इस खेती में पानी अन्य फसलों की अपेक्षा ज्यादा खर्च होता है। प्रत्येक वर्ष राज्य में धान के बढ़ते हुए क्षेत्र से लगभग 1.0 मीटर भू-जल स्तर में गिरावट दर्ज की जा रही है। इसलिए राज्य किसानों को धान की खेती छोड़कर अन्य फसलों की खेती करने हेतु प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से मेरा पानी मेरी विरासत योजना को शुरू किया है। इससे खेती में विविधता होगी और पानी की खपत में भी कमी आएगी। योजना के अनुसार सरकार ने किसान को धान के स्थान पर मक्का, अरहर, उड़द, कपास, बाजरा, मूंग जैसी फसल बौने के विकल्प दिए हैं। करीब एक लाख हैक्टेयर भूमि पर अन्य फसलों को जगह देना का लक्ष्य रखा है। यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना 2021: हरियाणा के किसान ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का लाभ

  • यह योजना राज्य के सभी जिलों में लागू है।
  • किसानों को धान की खेती छोड़कर अन्य फसल जैसे अरहर, कपास, बाजरा की खेती करने की एवज में 7000 रुपए प्रति एकड़ की हिसाब से राशि दी जाती है।
  • यदि किसान अपने खेत के 50 प्रतिशत हिस्से पर अन्य फसलों की खेती करता है तब उसे यह धनराशी दी जाती है।
  • अगर किसान अपने खेत में अन्य फसलों को स्थान देकर उनका फसल बीमा करवाता है तो किसान के हिस्से की राशि सरकार द्वारा दी जाती है।
  • खेती सम्बंधित मशीनरी उपलब्ध करवाई जाती है।
  • माइक्रो-इरीगेशन और ड्रिप इरीगेशन के लिए 80% सब्सिडी भी दी जाती है।
  • मक्का बिजाई मशीन पर 40% की सब्सिडी दी जाती है।
  • फसल विविधीकरण हेतु किसान द्वारा सिंचाई यंत्र खेतों में स्थापित किए जाते हैं तो इस स्थिति में किसान को कुल लगत का सिर्फ जीएसटी ही देना होगा।
  • यदि किसान मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास और सब्जी की खेती करता है सरकार फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करेगी।
  • इस योजना से सम्बंधित एक पोर्टल भी बनाया है, जिससे पात्र लाभार्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकता है।
  • मक्का खरीद के दौरान मण्डीयों में मक्का सुखाने के लिए मशीने लगाई जाएगीं, जिससे किसानों को पर्याप्त नमी के आधार पर उचित मुल्य मिल सके।
  • Mera Pani Meri Virasat Yojana से जल संरक्षण को भी बढ़ावा मिलेगा।
  • आने वाले समय में राज्य के भू-जल में भी वृद्धि होगी।

Har Hith Store Yojana Haryana Detail in Hindi

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हेतु नियम व शर्तें

  • किसान की पिछली फसल यदि धान की नहीं थी तो उसे धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
  • जिन ग्राम पंचायतों में जल स्तर 35 मीटर गहरा है वहां भी किसान धान की खेती नहीं कर सकते।
  • ऐसे किसान जिनके खेतों में ट्यूबवेल 50 हॉर्स पॉवर इलेक्ट्रिक मोटर से चल रही है, उन्हें भी धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की पात्रता 

  • सिर्फ हरियाणा के मूल निवासी किसान ही इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
  • जो किसान सिर्फ धान की खेती करते हैं उन्हें अपने खेत के 50% हिस्से अन्य फसलों को स्थान देना होगा।
  • हरियाणा के जिन क्षेत्रों में पर्याप्त पानी है और वहां यदि कोई किसान धान की खेती को छोड़कर अन्य फसल को अपने खेत में स्थान देता है तो वह भी इस योजना का लाभ लेने के पात्र होगा।
  • बैंक खाते से आधारकार्ड नंबर लिंक होना चाहिए।

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना के दस्तावेज़

  • हरियाणा का स्थायी निवासी प्रमाणपत्र
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • कृषि योग्य भूमि के कागज़ात
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Mera Pani Meri Virasat Yojana Apply online registration 2021

हरियाणा के पात्र किसान यदि Mera Pani Meri Virasat Yojana के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो वे सरकार द्वारा निर्धारित समय सीमा के अंतर्गत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (online registration) कर सकते हैं। सरकार द्वारा निर्धारित अंतिम तिथि (Last Date) के बाद online आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। नीचे आपको इस योजना के लिए आवेदन करने की पूर्ण प्रक्रिया दी गई है।

  • सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना से सम्बंधित आधिकारिक वेबसाईट पर जाना होगा।
  • Mera Pani Meri Virasat Yojana Official Website: Click Here
  • ऑफिसियल वेबसाइट का होम पेज खुलने के बाद ‘फसल विविधीकरण के विकल्प पर क्लिक करें।
  • अब अपनी आधार संख्या को दर्ज करें और नेक्स्ट पर क्लिक करें।
  • आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा, जिसमें आपको पूछी गई पूर्ण जानकारी ध्यानपूर्वक भरना होगा।
  • जानकारी दर्ज करने के बाद आप सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  • मेरा पानी मेरी विरासत के लिए आपका ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पूर्ण हो जाएगा।

Contact us-

यदि आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना से जुड़ने में किसी भी प्रकार की परेशानी आ रही है तो आप नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर बात कर अपनी परेशानी को हल कर सकते हैं। नीचे आपको Mera Pani Meri Virasat Yojana हेतु संपर्क जानकारी दी गई है।

Helpline Number -1800-180-2117

Agriculture and Farmers Welfare Department

Krishi Bhawan, Sector 21, Panchkula

E-mail: agriharyana2009@gmail.com, psfcagrihry@gmail.com

Tel.: 0172-2571553, 2571544

Fax: 0172-2563242

Kisan Call Centre-18001801551

FAQ-

मेरा पानी मेरी विरासत योजना किस राज्य से सम्बंधित योजना है?

यह हरियाणा सरकार की योजना है, जिसे हरियाणा सरकार ने ख़ास किसानों के लिए शुरू किया था।

Mera Pani Meri Virasat Yojana हरियाणा के अंतर्गत किसानों को कितने रुपए मिलते हैं?

हरियाणा के किसानों को मेरा पानी मेरी विरासत योजना के माध्यम से 7,000 रुपए दिए जाते हैं।

Yojana Latest Update- June 2021

वर्ष 2021 में यदि आप कोई पात्र किसान इस योजना का लाभार्थी बनना चाहता है तो उसके लिए सरकार ने 15 जुलाई 2021 से पहले आवेदन मांगे हैं। अंतिम दिनांक ने बाद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ख़त्म हो जाएगी। पहले 25 जून अंतिम तिथि निर्धारित की गई थी, लेकिन बाद में इसे बढाकर 15 जुलाई कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*