Gobardhan Scheme 2021 in Hindi: गोबर धन योजना क्या है, कैसे किसानों को मिलेगा लाभ

Gobardhan Scheme 2021 in Hindi: किसानों की आमदनी को दोगुनी करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए केंद्र सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए सरकार योजनाओं की घोषणा करती रहती है। किसानों की आर्थिक आय को बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी योजना गोबर धन योजना को सफलतापूर्वक शुरू किया जा चुका है। इस योजना से जुड़ी अधिकारिक वेबसाइट को भी लॉन्च कर दिया गया है। गोबर धन योजना क्या है, कैसे इस योजना के माध्यम से किसान अपनी आय को बढ़ा सकते हैं।

Contents-

Gobardhan Yojana 2021 in Hindi | गोबर धन योजना क्या है? | GOBARDhan Full Form | Gobar Dhan Scheme Detail, Benefits | Objectives | Official Portal/Website | Lunch Date |

गोबर धन योजना क्या है? (GOBARDhan Full Form)

गोबरधन योजना (GOBAR-Dhan Yojana) का पूरा नाम गैल्वनाइजिंग ऑर्गेनिक बायो-एग्रो रिसोर्सेज धन योजना (Galvanising Organic Bio-Agro Resources-Dhan Scheme) है। पशुओं के अपशिष्ट, पत्तियों और अन्य कचरे को कम्पोस्ट, बायो-गैस और बायो-सीएनजी में बदलने के लिए इस योजना को आरम्भ किया गया है। इस योजना के तहत कई गांवों में कई प्लांट लगाए जाएंगे। इन बायो प्लांटों को ग्रामीण परिवार, ग्रामीण परिवारों का समूह सरकार की मदद से स्थापित कर सकता है। 28 फ़रवरी 2018 को गोबरधन योजना का ऐलान किया गया था, जिसके बाद 3 फ़रवरी 2021 को इस योजना से जुड़ा अधिकारिक पोर्टल लॉन्च किया गया। जल शक्ति मंत्रालय के द्वारा इस योजना का संचालन किया जा रहा है, जिसमें पशुपालन और डेयरी, कृषि औरं पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस मंत्रालयों की भी मुख्य भूमिका है।

गोबर धन योजना का उद्देश्य (Gobardhan Yojana Objectives)

केंद्र सरकार की इस योजना का उद्देश्य गोबर के कम होते उपयोग को बढ़ाना है। आज कल गांवों में रासायनिक खाद का इस्तेमाल किया जाता है, जिस वजह से गोबर के खाद की उपयोगिता कम हो गयी है। सरकार किसानों से गोबर खरीद कर उसे खाद, बायो-गैस और बायो-सीएनजी में परिवर्तित करेगी। इससे किसानों की आय में भी इजाफा होगा। साथ ही गोबर्धन योजना स्वच्छ भारत मिशन में भी अहम् भूमिका निभाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता में सुधार और स्वास्थ्य में सुधार के लिए यह सरकार का बेहद बड़ा कदम है। गोबर धन योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों से कचरे को समाप्त कर पर्यावरण स्वच्छता को बढ़ावा और वेक्टर जनित बीमारियों पर अंकुश लगाया जाएगा।

Gobar Dhan Yojana Ki Jankari

विश्व में भारत के पास सबसे ज्यादा पशु आबादी है। भारत में पशुओं की जनसंख्या तकरीबन 300 मिलियन है, जिससे रोजाना 30 लाख टन गोबर प्राप्त होता है। इस योजना से मवेशियों के गोबर, कृषि से निकलने वाले कचरे को संसाधन में रूपांतरण करने, कच्चे तेल के आयात में कमी और जैविक खेती को बढ़ावा देने में मदद करेगी।

Gobar Dhan Yojana Official Portal – Click Here

गोबरधन योजना का लाभ (Gobar Dhan Scheme Benefits)

  • पशुओं के अपशिष्ट, खेतों से निकलने वाले कचरे, पत्तियों, को कंपोस्ट, बायोगैस या बायो सीएनजी में परिवर्तित किया जावेगा।
  • बायो गैस के माध्यम से बिजली का उत्पादन किया जावेगा।
  • जैविक खाद का इस्तेमाल बढ़ेगा।
  • अपशिष्ट पदार्थ और कूड़े-कचरे के इस्तेमाल से ग्रामीण क्षेत्रों की स्वच्छता बढ़ेगी।
  • गोबर धन योजना से पर्यावरण प्रदुषण पर भी अंकुश लगेगा।
  • गोबर का प्रोडक्टिव तरीके से उपयोग करने पर राष्ट्रीय स्तर पर 15 लाख से भी ज्यादा रोजगार पैदा होगा।
  • पशुपालन के कारोबार में वृद्धि होगी।
  • किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रो में व्यक्तिगत बायोगैस प्लांट, सामुदायिक बायोगैस प्लांट स्थापित किए जाएंगे।

गोबर धन योजना की इकाईयां (Gobar dhan Project Model)

व्यक्तिगत घरेलू इकाइयाँ:

परिवार अपने स्वयं के संसाधनों का उपयोग करके बायो गैस प्लांट स्थापित कर सकता है, जिसके लिए सरकार द्वारा आर्थिक और तकनीकी सहायता प्रदान की जाएगी। ऐसी कई योजनाएं हैं जो घरेलू इकाइयों के निर्माण के लिए प्रोत्साहन प्रदान करती हैं और ग्रामीण परिवार इसका लाभ ले सकता है। बायोगैस का उपयोग घर में खाना पकाने और घोल का इस्तेमाल खाद के रूप में किया जा सकता है।

सामुदायिक इकाइयाँ:

सामुदायिक इकाइयों के अंतर्गत एक गांव में परिवारों का समूह बायो गैस प्लांट स्थापित कर सकता है और गोबरधन इकाई को सामूहिक रूप से उपयोग कर सकता है।

क्लस्टर इकाइयाँ:

इकाइयों की यह श्रेणी उन लोगों को शामिल करेगी जहां एक गाँव / गाँव के समूह में कई घरों में बायोगैस संयंत्र स्थापित किए जाते हैं और घोल सामूहिक रूप से एक केंद्रीय / सहमत स्थान पर एकत्र किया जाता है। भाग लेने वाली इकाइयां गोबरधन के कार्यान्वयन से निकलने वाले घोल और अन्य उत्पादों का उपयोग कर सकती है।

वाणिज्यिक इकाइयाँ:

ये बड़े हस्तक्षेप हैं, जहां कई गांव भाग ले सकते हैं और उच्च मात्रा में गैस उत्पन्न कर अच्छा धन अर्जित कर सकते हैं।

Gobar-dhan Yojana FAQ-

गोबरधन योजना किस राज्य से सम्बंधित है?

-यह केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी योजना है, जिसका विस्तार धीरे-धीरे हर राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों मिएँ किया जा रहा है|

गोबर धन योजना का full form?

-GOBAR-Dhan का full-form है – Galvanising Organic Bio-Agro Resources-Dhan. Gobar-Dhan

Gobar Dhan Yojana Wikipedia?

-Wikipedia पर इस योजना से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध नहीं है|

Jai Jawan, Jai Kisan

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*