घरेलू सोलर रूफटॉप योजना क्या है, राजस्थान निवासी 2021 में आवेदन पाए सौर उर्जा पर सब्सिडी

Rajasthan Solar Subsidy 2021: ग्रीन एनर्जी को बढ़ावा देने के लिए सरकार किसानों को सौर उर्जा से कृषि उपकरणों को चलाने पर जो दे रही है। खेतों में सोलर संयंत्र स्थापित करने हेतु सरकार योजनाओं की मदद से सब्सिडी भी प्रदान करती है। कई सरकारी कार्यालाओं में भी सोलर रूफटॉप स्थापित कर इससे पैदा की जाने वाली बिजली का इस्तेमाल किया जा रहा है। सरकार अब आमजन को भी अपने घरों में सोलर रूफटॉप लगवाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है। राज्य सरकारों ने सौर संयंत्र पर सब्सिडी देने हेतु योजना बनाना शुरू कर दिया है। राजस्थान सरकार ने अपने राज्य के निवासियों के लिए घरेलू सोलर रूफटॉप योजना (Rajasthan Domestic Rooftop Solar Scheme) शुरू की है। आइए जानते हैं कैसे राजस्थान के निवासी योजना के अंतर्गत आवेदन कर सब्सिडी हासिल कर सकते हैं।

Solar Subsidy in Rajasthan 2021 Detail in Hindi

योजना का नामघरेलू सोलर रूफटॉप योजना
राज्यराजस्थान
योजना की शुरुआत2020
लाभसौर संयंत्र पर सब्सिडी
लाभार्थी  राजस्थान के निवासी
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)energy.rajasthan.gov.in
Rajasthan Domestic Rooftop Solar

राजस्थान घरेलू सोलर रूफटॉप योजना क्या है?

घरेलू सोलर रूफटॉप योजना को राजस्थान सरकार ने प्रारंभ किया है। योजना के माध्यम से राज्य के निवासी अपने घर पर सोलर रूफटॉप स्थापित करने के लिए सरकार द्वारा 40% तक की सब्सिडी प्राप्त कर सकता है। राजस्थान के तीनों डिस्कोम, जयपुर, जोधपुर और आमेर डिस्कोम के माध्यम से आप इस योजना का लाभ उठा पाएंगे। सब्सिडी लेकर घरेलू सोलर रूफटॉप लगवाने के लिए आपको अंतिम दिनांक से पहले आवेदन करना होगा, इसके बाद एक सूची जारी की जाएगी, यदि इस सूची में आपका नाम शामिल है तो आप घरेलू सोलर रूफटॉप को अनुदान लेकर स्थापित करवा पाएंगे। राज्य सरकार राजस्थान अक्षय उर्जा निगम (RREC) की मदद से इस योजना का संचालन कर रही है।

यह भी पढ़े:

कितना मिलेगा अनुदान

राजस्थान में इस योजना के तहत कुल 45 मेगावाट क्षमता के प्लांट को स्थापित किया जाएगा। जयपुर डिस्कॉम 25 मेगावाट, अजमेर डिस्कॉम 5 मेगावाट और जोधपुर डिस्कॉम 15 मेगावाट घरेलू रूफटॉप सोलर प्लांट लगाएगा। नीचे किलोवाट के अनुसार अनुदान की सूची दी गई है।

  • यदि आप अपने घर में 3 किलोवाट तक का रूपटॉप सोलर प्लांट लगवाते हैं तो आपको 40% अनुदान दिया जाएगा।
  • अधिकतम 10 किलोवाट तक का रूपटॉप सोलर प्लांट स्थापित करने पर 20 प्रतिशत अनुदान निर्धारित किया गया है।
  • यदि  ग्रुफ हाउसिंग सोसायटी और रेजिडेंसियल वेल्फेयर एसोसिएशन सोसायटी में रुफटॉप सोलर प्लांट लगावाते हैं तो इसके लिए 20 प्रतिशत अनुदान मान्य होगा।
  • रेजिडेंसियल क्षेत्र में अधिकतम 10 किलोवाट के रुफटॉप सोलर प्लांट के लिए अनुदान 20 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा।

सोलर रूफटाप पैनल लगवाने के लाभ

  • घर में सोलर रूफटाप लगाने के लिए सरकार सब्सिडी देती है।
  • पहले संयंत्र स्थापित करने के लिए बैट्री का इस्तेमाल किया जाता था, जिससे यह महंगा पड़ता था, लेकिन अब बैट्री का इस्तेमाल नहीं किया जाता। इससे आपको पहले की अपेक्षा कम कीमत में सोलर रूफटाप स्थापित कर पाएंगे।
  • बिजली खर्च के झंझट से निजात मिलेगी।
  • यह हमारे पर्यावरण के लिए भी हानिकारक नहीं है, इससे कार्बन फुटप्रिंट कम होगा।
  • सोलर पैनल से आप 25 वर्ष तक बिजली का उत्पादन कर इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • खुली छत पर एक कमरे की जगह में आप इसे स्थापित करवा सकते हैं।

घरेलू सोलर योजना राजस्थान आवेदन

यदि आप अपने घर में सोलर रूफटॉप स्थापित करवाना चाहते हैं आप नजदीकी डिस्कॉम से संपर्क करें। इसके अलावा आप सर्टिफाइड डीलर/वेंडर्स के माध्यम से भी इसे स्थापित करवा सकते हैं। इन संयंत्रों की स्थापना के बाद 5 वर्ष तक रख-रखाव की जिम्मेदारी भी वेंडर्स की होती है।

Important Link:

RREC Official Website: Click Here

राजस्थान किसानों को भी मिलती हैं सौर ऊर्जा पर सब्सिडी

शहरी क्षेत्र के साथ-साथ राजस्थान के किसानों को भी सौर उर्जा पर सब्सिडी मुहैया करवाने के उद्देश्य से Rajasthan Solar Pump Subsidy Yojana चलाई जाती है। इस सोलर योजन के अंतर्गत राजस्थान में सौर उर्जा से चलने वाले पम्प स्थापित करने हेतु किसानों को अनुदान दिया जाता है।  राज्य के किसानों हेतु सौर उर्जा पंप सब्सिडी योजना को जवाहरलाल नेहरु राष्ट्रीय सौर मिशन के अंतर्गत शुरू किया गया था। राजस्थान सौर ऊर्जा सब्सिडी योजना 2020-2021 के अंतर्गत किसानों को सोलर पम्प की कुल कीमत पर 60 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है। 40 प्रतिशत किसान को अपनी ओर से देने होते हैं, यदि किसान के पास देने के लिए रुपए नहीं हैं तो वह 30 प्रतिशत हिस्सा बैंक से लोन ले सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*