Chirayu Yojana: चिरायु योजना क्या है, बच्चों के लिए लाभकारी छत्तीसगढ़ चिरायु योजना

Chirayu Yojana Chhattisgarh in Hindi: राज्य सरकारें अपने प्रदेश के नागरिकों हेतु भिन्न-भिन्न योजनाओं का संचालन करती हैं। राज्य के निवासियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए भी कई योजनाओं को चलाया जाता है। केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई स्वास्थ्य योजनाओं के साथ ही पात्र व्यक्ति राज्य की योजनाओं का लाभ भी उठा सकता है। छत्तीसगढ़ सरकार भी स्वास्थ्य सम्बंधित कई योजनाओं का क्रियांवयन करती है, जिसमें से एक चिरायु योजना है। यह योजना ख़ास बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई हैं। आइए छत्तीसगढ़ की चिरायु योजना से सम्बंधित जानकारी के बारे में जानते हैं।

Chirayu Yojana Chhattisgarh Detail in Hindi

Chirayu Yojana Chhattisgarh
योजना का नामचिरायु योजना
राज्यछत्तीसगढ़
योजना की शुरुआतवर्ष 2014
लाभबच्चों की स्वास्थ्य स्क्रीनिंग
लाभार्थी छत्तीसगढ़ के बच्चे
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)जानकारी नहीं है

चिरायु योजना क्या है?

Chirayu Yojana: चिरायु योजना छत्तीसगढ़ राज्य की स्वास्थ्य योजना है। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चिरायु योजना (Chirayu Yojana) को सबसे पहले 6 अगस्त 2014 को छत्तीसगढ़ के सत्य साई संजीवनी हॉस्पिटल (Satya Sai Sanjeevani Hospital) में लॉन्च किया गया था, इसके बाद 28 अगस्त 2014 को इसे सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ के लिए लॉन्च किया गया। योजना के अंतर्गत 6 से 18 वर्ष तक के बच्चों स्क्रीनिंग की जाती है। यदि इनमें से किसी बच्चे में कोई बीमारी पाई जाती है तो उसका निशुल्क इलाज किया जाता है। बच्चों की स्क्रीनिंग के लिए चिरायु टीम अलग-अलग जगह पर जाकर जांच करती है।

चिरायु योजना का उद्देश्य (Chirayu Yojana)

कई बच्चे जन्मजात से ही कुछ बीमारीयों के साथ पैदा होते हैं, वहीँ कुछ अशुद्ध भोजन व अन्य किसी कारण से गंभीर बीमारी का शिकार हो जाते हैं। बच्चों का चेकअप न हो पाने की वजह से यह बीमारियां उनके शरीर में धीरे-धीरे बढ़ती जाती हैं और गंभीर रूप ले लेती हैं। इस योजना का उद्देश्य बच्चों की बीमारी को गंभीर स्थिति में पहुँचने से पहले ठीक करना है। योजना के माध्यम से आंगनबाड़ी, स्कूल व अन्य स्थानों पर चिरायु टीम द्वारा जांच केंद्र स्थापित कर बच्चों की स्क्रीनिंग की जाती है।

छत्तीसगढ़ की चिरायु योजना का लाभ

  • योजना के तहत अलग-अलग स्थानों पर बच्चों की स्क्रीनिंग की जाती है।
  • चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा यह स्क्रीनिंग की जाती है।
  • आंगनबाड़ी सेंटर, प्राइमरी, सेकंड्री, हायर सेकंड्री गवर्नमेंट स्कूलों और रेसिडेंशियल सरकारी स्कूलों में बच्चों की स्क्रीनिंग हेतु जांच केंद्र लगाए जाते हैं।
  • योजना के माध्यम से बच्चों की फ्री स्क्रीनिंग की जाती है।
  • योजना के अंतर्गत 35 तरह की बीमारियों को ठीक किया जाता है, जिसमें आँख से कम दिखाई देना, कानों से कम सुनाई देना, विटामिन की कमी, एनीमिया, ह्रदय रोग, जैसी बीमारियों की पहचान कर उनका इलाज किया जाता है।
  • बीमारी की पहचान होने पर उनका इलाज किया जाता है।
  • यदि कोई बच्चा गंभीर स्थिति में है तो उसे टीम द्वारा तुरंत नजदीकी हॉस्पिटल भेज दिया जाता है।
  • छत्तीसगढ़ के हर ब्लॉक में इस योजना को लागू किया गया है।  
  • बीमारी के गंभीर स्थिति में पहुँचने से पहले ही बच्चों का इलाज हो जाता है।

Chirayu Yojana की पात्रता

  • छत्तीसगढ़ के मूलनिवासी बच्चों को ही इस योजना का लाभ दिया जाता है।
  • 6 से 18 वर्ष के बच्चे ही इस योजना के तहत फ्री स्क्रीनिंग के पात्र हैं।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना की पूरी जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*