बिरसा किसान योजना क्या है, झारखंड के किसान फ्री में बनवाएं यूनिक आईडी कार्ड

Kisan Unique Id Card 2021: केंद्र और राज्य सरकारों की कोशिश है कि किसानों की आय को दोगुना किया जाए। इसके लिए कई योजनाओं का संचालन किया जा रहा है, लेकिन पात्र किसानों तक सरकार द्वारा तैयार की गई योजनाओं का लाभ नहीं पहुंच पा रहा। पात्र किसानों तक योजनाओं का लाभ पहुंचे, इसके लिए झारखंड सरकार ने बिरसा किसान योजना (Birsa Kisan Yojana) को शुरू किया है। इसके अंतर्गत किसानों के यूनिक आईडी कार्ड बनाए जाएंगे। इससे किसानों का डाटा राज्य सरकार के पास एकत्रित किया जाएगा, जिससे सुविधाजनक रूप से सरकारी योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचे। बिरसा किसान योजना क्या है, किसान यूनिक आईडी कार्ड फ्री में कैसे बनवाएं, पात्र किसान ऑनलाइन आवेदन कैसे करें? आइए झारखंड सरकार की बिरसा किसान योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में जानते हैं।

Jharkhand Birsa Kisan Yojana Detail in Hindi

योजना का नामबिरसा किसान योजना
राज्यझारखंड
योजना की शुरुआत2021
लाभफ्री में किसान यूनिक आईडी कार्ड बनाए जाएंगे
लाभार्थी कृषि क्षेत्र से जुड़े मजदूर, छोटे किसान आदि
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)जानकारी उपलब्ध नहीं है

Jharkhand Birsa Kisan Yojana | Kisan Unique ID Card | Online Registration | Eligiblity

Jharkhand Bisra Kisan Yojana Unique ID Card

बिरसा किसान योजना क्या है?

झारखंड सरकार के द्वारा बिरसा किसान योजना आरम्भ की गई है, इसके अंतर्गत किसान यूनिक आईडी कार्ड बनाए जाएंगे। राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने यह योजना वर्ष 2021 में शुरू की है। ऑनलाइन पंजीकरण (Online Registration) के बाद किसान को यूनिक आईडी कार्ड दिया जाएगा, जिसमें एक बार कोड होगा। Kisan Unique Id Card के माध्यम से योजना के लिए पात्र किसानों की पहचान की जाएगी। किसानों की जानकारी को एक अलग सर्वर पर अपलोड कर उसे सुरक्षित रूप से स्टोर किया जाएगा। किसान के बारे में हर जानकारी रखी जाएगी कि उसे कौन सी योजना का लाभ मिला है, और पात्र होने के बावजूद भी उसे किन-किन योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

किसानों यूनिक आईडी कार्ड बनाने के उद्देश्य

राज्य सरकार किसानों के लिए कई योजनाएं चलाती हैं। बिचौलियों के माध्यम से कुछ योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचाया जाता है, लेकिन कई बार इन्हें पूर्ण रूप से योजना का लाभ नहीं मिल पाता। किसानों तक सरकारी योजना का लाभ पहुंचाने में बिचौलियों की भूमिका को खत्म करने और किसानों तक सभी योजनाओं का सीधा लाभ पहुँचाने के उद्देश्य से राज्य सरकार किसानों के यूनिक आईडी कार्ड बनाने जा रही है। इसके अलावा कई बार योजनाओं से ऐसे लाभार्थी भी जुड़ जाते हैं, जो कि योजना का लाभ लेने के पात्र नहीं है। Kisan Unique Id Card बनने से फर्जी तरीके से लाभ उठा रहे लोगों की भी पहचान की जाएगी। किसानों का ऑनलाइन डाटा बेस तैयार किया जाएगा, जिसमें भूमि का विवरण, किसान द्वारा उत्पादित फसल का प्रकार, खेत से उत्पादन आदि को जोड़ा जाएगा।

बिरसा किसान योजना का लाभ

  • किसानों तक आसानी से सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाया जाएगा।
  • लाभ पहुंचाने में बिचौलियों की भूमिका खत्म होगी।
  • फर्जी तरीके से सरकारी योजना का लाभ उठा रहे लोगों की पहचान की जाएगी, व उन्हें योजना से अलग किया जाएगा।
  • सिर्फ जरूरतमंदों को ही योजना का लाभ दिया जाएगा।
  • पात्र किसानों को योजना का लाभ देने से पहले डीएओ (DAO) द्वारा जांच की जाएगी कि किसान को वर्तमान या पिछले वर्षों में योजना का लाभ प्राप्त हुआ है या नहीं।
  • सरकार के पास किसानों के सही आंकड़े मौजूद होंगे।
  • किसानों की भूमि, खेत में की जाने वाली फसल का प्रकार, उसका उत्पादन, सभी की जानकारी डेटाबेस में दर्ज की जाएगी।
  • किसान किस फसल की खेती कर रहा है, उससे संबंधित सलाह, उत्पादन, बाजार में मूल्य, नुकसान का आकलन भी किया जाएगा।
  • यदि किसी विशेष वर्ग के कार्य के लिए कोई मजदूर किसान की आवश्यकता पड़ती है तो यूनिक आईडी के जरिए उन्हें सूचित किया जाएगा।
  • योजना के माध्यम से झारखंड के करीब 58 लाख किसानों के यूनिक आईडी कार्ड (Kisan Unique ID Card) बनाए जाएंगे।

बिरसा किसान योजना हेतु पात्रता

  • सिर्फ झारखंड के मूलनिवासी किसान ही यूनिक आईडी कार्ड बनवाने हेतु पंजीकरण कर सकते हैं।
  • आवेदन करने वाले व्यक्ति की उम्र 16 से 59 वर्ष की होनी चाहिए।
  • कृषि क्षेत्र से जुड़े मजदूर एवं छोटे किसान
  • पशुपालन करने वाले
  • मछली विक्रेता
  • मोची
  • ईट भट्टों व घरों में काम करने वाले
  • रेहड़ी-थड़ी
  • न्यूज पेपर वेंडर
  • कार पेंटर
  • प्लंबर
  • आटो चालक
  • मनरेगा वर्कर
  • दूध विक्रेता
  • स्थानांतरित लेबर
  • नाई
  • आशा वर्कर
  • चाय विक्रेता
  • किसी संगठन से ना जुड़े हुए लोग
  • दस्तावेज
  • आधार कार्ड
  • बैंक पास बुक के पहले पेज की कॉपी
  • मोबाइल नंबर

Birsa Kisan Yojana – Kisan Unique ID Card Online Registration

किसान व असंगठित श्रमिक के लिए यूनिक आईडी कार्ड बनवाने की प्रक्रिया काफी आसान है। अपने गांव या शहर के करीब कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर आप इस कार्ड को बनवा सकते हैं। जरूरी जानकारी देकर आप कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) या नागरिक सुविधा केंद्र के जरिए पंजीकरण (Online Registration) कर इस कार्ड को बनवा पाएंगे। इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का पंजीकरण शुल्क नहीं देना पड़ता। आईडी कार्ड बनने के बाद यदि आप इसमें कुछ अपडेट करवाना चाहते हैं, तो इसके लिए ₹20 की राशि आपको देनी पड़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*