बीज ग्राम योजना क्या है? बीज बेचकर किसानों की बंपर कमाई | Beej Gram Yojana 2021

Kisan Beej Gram Yojana: किसानों की आय को दोगुना और खेती में विकास करने हेतु केंद्र और राज्य सरकार लगातार कोशिश कर रही है। किसानों को नई-नई योजनाओं के माध्यम से आर्थिक व अन्य लाभ पहुंचाया जा रहा है। किसान को लाभ देने और उसे आत्मनिर्भर बनाने के लिए केंद्र सरकार ने बीज ग्राम योजना को शुरू किया था। इस योजना माध्यम से सरकार  किसानों को फसल के बीज के उत्पादन में हर संभव मदद प्रदान करती है। अपने क्षेत्र में बीज उत्पादन करने के बाद किसानों को अन्य राज्यों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा और उनके लिए आसानी से बीज उपलब्ध हो जाएंगे। आइए केंद्र सरकार की बीज ग्राम योजना के बारे में अधिक जानकारी जानते हैं।

Beej Gram Yojana 2021 Detail in Hindi

योजना का नामबीज ग्राम योजना
केंद्रीय/राजकीय योजनाकेंद्रीय योजना
योजना की शुरुआत वर्ष 2014 -15
लाभगुणवत्तापूर्ण बीजों पर अनुदान व बीजों के उत्पादन हेतु प्रशिक्षण
लाभार्थीसभी किसान
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)जानकारी नहीं है
Beej Gram Yojana detail in hindi

बीज ग्राम योजना क्या है?

केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2014 -15 में बीज ग्राम योजना को आरम्भ किया गया था। योजना के अंतर्गत किसानों को बीज उत्पादन के लिए मदद दी जाती है साथ ही प्रमाणिक बीज उपल्बध कराया जाता है। आरएसएससी द्वारा आस-पास के कुछ गांव के किसानों को मिलकर 2-3 समूह बनाए जाते हैं। हर समूह में 50 से 100 किसानों को शामिल किया जाता है। किसानों को बीज की बुवाई से कटाई तक कृषि विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षण दिया जाता है। Beej Gram Yojana के अंतर्गत विकसित की गई  फसलों के बीजों को जिले के कृषि विज्ञान केंद्रों में रोपित किया जाता है। इन बीजों को ब्रीडर बीज कहते हैं। अगले वर्ष ब्रीडर बीज से जो फसल का उत्पादन होता है उस बीज को फाउंडेशन बीज कहा जाता है, अब यह बीज समूह में शामिल किसानों को खेत के 0.1 हैक्टेयर क्षेत्र में बुवाई हेतु दिया जाता है। एक साल बाद किसानों के खेतों में जो बीज तैयार होता है उसे प्रमाणिक (सर्टिफाइड) बीज कहा जाता है। इन बीजों को दुबारा बुबाई के लिए काम में लिया जा सकता है। यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री किसान ट्रैक्टर योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें

Beej Gram Yojana– उद्देश्य

किसानों की आय मुख्यतः उनकी फसल पर ही निर्भर करती है। फसल बिगड़ने की स्थिति में किसान को आर्थिक नुकसान झेलना पड़ता है, वहीँ अच्छी फसल होने पर उनकी कमाई भी अच्छी होती है। खेतों में अच्छी फसल हो उसके लिए कई चीजें मायने रखती हैं, उनमें से एक महत्वपूर्ण चीज बीज भी है। अच्छी फसल के लिए गुणवत्तापूर्ण बीज बेहद जरूरी है। इससे फसल का उत्पादन भी बढ़िया होता है, जिससे किसानों की अच्छी फसल होने की उम्मीद बढ़ जाती है। किसानों को बुवाई के समय बीज के लिए दूसरे राज्यों में भटकना पड़ता था, इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसान को उसके क्षेत्र में उच्च गुणवत्ता वाले बीज मुहैया करवाकर आत्मनिर्भर बनाना है। यह भी पढ़ें: सॉइल हेल्थ कार्ड योजना क्या है, मृदा स्वास्थ्य कार्ड कैसे बनवाएं?

Beej Gram Yojana– लाभ

  • किसानों को गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध करवाए जाते हैं।
  • आरएसएससी द्वारा किसानों को बीजों की बुवाई से लेकर कटाई तक प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • प्रशिक्षण द्वारा किसान स्वयं ही गुणवत्तापूर्ण बीज का उत्पादन कर सकते हैं।
  • गुणवत्तापूर्ण बीजों के इस्तेमा से फसल भी अच्छी क्वालिटी की निकलती है।
  • योजना के अंतर्गत छोटे किसानों को 50 फीसदी अनुदान पर बीज मुहैया करवाए जाते हैं, जबकि सामान्य किसान को 25 फीसदी अनुदान मिलता है।
  • राज्यों के अनुसार खाद, दवा और कृषि यंत्र  पर भी अलग-अलग अनुदान दिया जाता है।
  • किसानों की बीज की बिक्री से भी बेहद लाभ होता है।
  • फाउंडेशन बीज तैयार कर किसान उसे कृषि विज्ञान केंद्र या राज्य बीज निगम को सीधे बेच सकता है।

बीज ग्राम योजना से कैसे जुड़े

यदि कोई किसान बीज ग्राम योजना से जुड़कर लाभ अर्जित करना चाहते हैं तो उन्हें जिला कृषि पदाधिकारी से संपर्क करना होगा। इसके बाद आसान सी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया से आप इस योजना से जुड़ सकते हैं। जिसके बाद आप बीज ग्राम योजना के तहत बीज पैदाकर लाभ कमा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*