{Full Detail In Hindi} Atmanirbhar Swasth Bharat Scheme 2021: आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना क्या है?

Atmanirbhar Swasth Bharat Scheme 2021 In Hindi: सरकार द्वारा देश में स्वास्थ्य सम्बंधित योजना आयुष्मान भारत सफलतापूर्वक चलाई जा रही है। इसके अंतर्गत लाभार्थी हर वर्ष 5 लाख तक का इलाज करवा सकता है। साथ ही सरकार देश के हेल्थ सेक्टर को और मजबूत बनाने के लिए प्रयास कर रही है। इसी लक्ष्य से सरकार ने वर्ष 2021 में आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत स्कीम क्या है, कैसे देश के आम नागरिक इस बड़ी स्वस्थ योजना का लाभ ले सकते हैं? आइए इस सरकारी हेल्थ स्कीम के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Atmanirbhar Swasth Bharat Scheme 2021 Detail

योजना का नामआत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
किसके द्वारा लांच की गईवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण
कब घोषणा की गयी1 फ़रवरी 2021
उद्देश्य हेल्थ सेक्टर का विकास करना
बजट₹ 64,180 करोड़
लाभार्थीभारतीय नागरिक

Content-

Atmanirbhar Swasth Bharat Scheme 2021 | आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना क्या है | Objectives | Benefits | Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana Detail in Hindi

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2021 क्या है?

वर्ष 2020 में दुनियाभर में फैली महामारी कोरोना ने भारतीय लोगों को भी प्रभावित किया था, देश में लोगों के इलाज के लिए अस्पतालों में जगह नहीं बची थी, पर्याप्त मशीनें नहीं थीं, जिस वजह से मरीजों को काफी समस्या का सामना करना पड़ा। आने वाले समय में भारत ऐसी बिमारियों से लड़ने के लिए तैयार रहे, इसे ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना का शुभारम्भ किया। देश का हेल्थ सेक्टर मजबूत बनाने के लिए इस योजना के तहत केंद्र सरकार ने 2.38 लाख करोड़ रुपए खर्च करने का लक्ष्य रखा है। योजना के पहले चरण में बचाव, इलाज और वेल बीइंग पर ध्यान दिया जाएगा। इसके अलावा नई बीमारियों का पता लगाकर उनका इलाज खोजने के लिए नए संस्थानों का विकास किया जाएगा।

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना का उद्देश्य (Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana Objectives)

भारत आत्मनिर्भर बनने की दिशा में निरंतर प्रयास कर रहा है। आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के माध्यम से हेल्थ सेक्टर में आत्मनिर्भर बनने के लिए केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। कोरोना जैसी महामारी के लिए पहले से तैयार रहने और किसी अन्य देशों पर आश्रित न रहना पड़े इसलिए देश के हेल्थ सेक्टर मजबूत को मजबूत बनाना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज देश में ही हो सके, इसे ध्यान में रखते हुए इस योजना को तैयार किया गया है। योजना के माध्यम से जो प्रयोगशालाएं खोली जाएँगी, उनमें नई बीमारियों की पहचान की जाएगी और उनका इलाज खोजा जाएगा।

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना का लक्ष्य और लाभ (Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana 2021 Benefits)

  • केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना के लिए सरकार ने शुरुआती बजट 64,180 करोड़ रु. का रखा है।
  • प्रधानमंत्री की इस योजना के तहत 602 जिलों में क्रिटिकल केयर हॉस्पिटल खोले जाएंगे।
  • नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल को मजबूत किया जाएगा, साथ ही इसकी 5 क्षेत्रीय शाखाएं खोली जाएगी।
  • नई बीमारियों का पता लगाने और ठीक करने के लिए नए संस्थानों को विकसित किया जाएगा।
  • पब्लिक हेल्थ लैब्स को जोड़ने के लिए इंटीग्रेटेड हेल्थ इन्फॉर्मेश पोर्टल खोले जाएंगे।
  • इसके अंतर्गत 17000 ग्रामीण तथा 11000 शहरी हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर खोले जाएंगे।
  • इस योजना के तहत सभी जिलों कुल 3382 ब्लॉक में सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाओं को खोला जावेगा।
  • Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana 2021 के लिए पूरा रुपया केंद्र सरकार द्वारा ही खर्च किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत 12 केंद्रीय संस्थानों का विकास किया जाएगा।
  • 20 महानगरीय स्वास्थ्य निगरानी इकाइयां मजबूत की जाएँगी। 15 स्वास्थ्य आपातकालीन संचालन केंद्र और दो मोबाइल अस्पताल भी स्थापित किए जाएंगे।

बजट सत्र 2021-22 में हुआ था ऐलान

वित्त मंत्री निर्मला सीताराम द्वारा 1 फरवरी 2021 को बजट सत्र 2021-22 के दौरान आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना की विस्तृत जानकारी दी गई थी। इस योजना के माध्यम से हेल्थ सेक्टर के तीनों क्षेत्र बचाव, इलाज और रिसर्च पर अधिक ध्यान दिया जाएगा। भारत के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में जो कमियां हैं उन्हें इसकी मदद से दूर किया जाएगा। आगामी  6 वर्षों  में निर्धारित 64,180 करोड़ रुपए के बजट के साथ नए अस्पताल,सुविधाजनक रिसर्च सेंटर खोले जाएंगे। इससे आने वाले समय में फैलने वाली महामारी से नागरिकों को बचाने में मदद मिलेगी। योजना के अंतर्गत एक स्वस्थ सूचना पोर्टल तैयार किया जाएगा, जिससे सभी सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाओं को सूचना साझा करने के लिए जोड़ा जाएगा।

हेल्थ बजट में इजाफा

महामारी को देखते हुए सरकार ने बजट सत्र 2021-22 हेल्थ सेक्टर के बजट को करीब 137% बढ़ाया। इस बजट सत्र में स्वास्थ्य का बजट 2.23 लाख करोड़ रुपये निर्धारित किया गया। घोषणा में बताया गया की 15 हेल्थ इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर, 9 बायो सेफ्टी लेवल 3 लैब को भी खोला जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*