AKSV Yojana 2021-2022: आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना उत्तरप्रदेश किसानों को देगी लोन पर अनुदान

Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021 / आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना 2021 (AKSV Yojana): कृषि क्षेत्र में किसानों को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकार भी निरंतर कोशिश कर रही है। सरकार ने किसानों की आय को दोगुना करने के लिए एक के बाद एक कई योजनाएं संचालित की हैं। पीएम किसान एफपीओ योजना (PM Kisan FPO Yojana) के माध्यम से किसान लोन लेकर अपने कृषि बिजनेस को आसानी से प्रारंभ कर पा रहे हैं। अब ख़ास किसानों को आर्थिक लाभ देने के लिए उत्तरप्रदेश सरकार ने आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना की घोषणा कर दी है। यह यूपी के किसानों के लिए सबसे बड़ी योजनाओं में से एक होगी। आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना क्या है? इसके लिए ऑनलाइन आवेदन (Online Apply Registration Form) कब शुरू होगा, आइए इस योजना के लाभ, उद्देश्य समेत अन्य जानकारियों के बारे में जानते हैं।

Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021 Detail in Hindi

योजना का नामआत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना
राज्यउत्तर प्रदेश
शुरुआत2021
लाभएफपीओ से जुड़े किसानों को कम ब्याज दर पर लोन व अनुदान
लाभार्थी छोटे व सीमान्त किसान, जो एफपीओ से जुड़े हैं
अधिकारिक वेबसाइट (Official website)जानकारी नहीं है

आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना क्या है? | Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021 | UP FPO Online Registration |

FPO क्या होता है?

उत्तरप्रदेश आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना की जानकारी देने से पहले आइए आपको बताते हैं कि आखिर FPO होता क्या है। एफपीओ (FPO) यानी किसानी उत्पादक संगठन (कृषक उत्पादक कंपनी), यह किसानों का एक समूह होता है। इस संगठन के द्वारा कृषि उत्पादन कार्य व कृषि से जुड़ी व्यावसायिक गतिविधियों को चलाया जाता है। किसानों का समूह बनाकर आप कंपनी एक्ट में रजिस्टर्ड करवा सकते हैं। FPO में वह सारे फायदे मिलेंगे जो एक कंपनी को मिलते हैं। ये संगठन कॉपरेटिव पॉलिटिक्स से अलग होते हैं, इन FPO पर कॉपरेटिव एक्ट लागू नहीं होता है। केंद्र सरकार ने वर्ष 2024 तक 10,000 नए एफपीओ स्थापित करने का लक्ष्य तय किया है।

Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021-2022

यह भी पढ़ें:- उत्तरप्रदेश सक्षम सुपोषण योजना की पूरी जानकारी

आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना क्या है?

उत्तरप्रदेश सरकार ने 30 सितम्बर 2021 को आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना की घोषणा की थी। वहीँ वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले 3 दिसंबर 2021 को उत्तर प्रदेश मंत्रिपरिषद द्वारा कृषि क्षेत्र की इस बड़ी योजना को मंजूरी दी गई। इस योजना को चालू वित्त वर्ष 2021-2022 से ही लागू कर दिया जाएगा। योजना के माध्यम से एफपीओ (FPO) से जुड़े किसान 5 लाख रुपए तक का लोन ले सकते हैं। किसान को कम ब्याज दर पर मिलने वाले लोन पर राज्य सरकार 4 प्रतिशत का अनुदान भी देगी। योजना से 27 लाख से अधिक किसानों को लाभान्वित किया जाएगा। आने वाले 5 वर्षों में राज्य सरकार इस योजना के लिए 722.85 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है।

Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021 – उद्देश्य

उत्तरप्रदेश के किसानों को आत्मनिर्भर बनाने और उनकी आय को दोगुना करने के उद्देश्य से उत्तरप्रदेश आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना को शुरू करने का फैसला लिया गया। योजना की मदद से किसान कम दर पर लोन लेकर अपना कृषि व्यपार या अन्य व्यवसाय प्रारंभ कर सकते हैं। अपना व्यापार शुरू करने से किसानों की आय बढ़ेगी और वे आत्मनिर्भर बनेंगे। उन्हें सिर्फ खेती से होने वाली आय पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा।

राज्य सरकार बनाएगी FPO

ज्यादा से ज्यादा एफपीओ बनाने की जिम्मेदारी भी राज्य सरकार की होगी। हर ब्लॉक में कम से कम एक एफपीओ का गठन किया जाएगा। इस एफपीओ में किसानों की संख्या 500 से 1000 तक हो सकती है। अगले 5 वर्षों में राज्य सरकार ने 2725 एफपीओ के गठन करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। यांनी हर वर्ष उत्तरप्रदेश सरकार 625 एफपीओ का गठन करेगी। हर एफपीओ पर करीब 1.5 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

योजना का लाभ

  • Atmnirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana के माध्यम से किसानों के लिए हर ब्लॉक में एक एफपीओ खोला जाएगा।
  • छोटे व सीमांत किसानों को एफपीओ से जोड़ा जाएगा।
  • राज्य की यूपी डास्प, हॉर्टिकल्चर फेडरेशन, योग्य एफपीओ व स्वयं सेवी संस्थाएं भी एफपीओ खोलने में राज्य सरकार की मदद करेंगे।
  • एफपीओ से जुड़ने के बाद कम ब्याज दर पर किसान लोन प्राप्त कर सकते हैं।
  • किसान पांच लाख रुपए का लोन ऋण ले सकते हैं।
  • लोन लेने के बाद किसानों को राज्य सरकार की तरफ से 4 प्रतिशत का अनुदान भी दिया जाएगा।
  • किसान अपना मनपसंद व्यापार खोल पाएंगे, जिससे उनकी आय में वृद्धि होगी और वे आत्मनिर्भर भी बनेंगे।
  • एफपीओ से जुड़ने के बाद किसानों को अपनी उपज का मोल भाव करने का मौका मिलता है।
  • व्यापारियों या कंपनियों को सीधे अपनी फसल बेच रहा हो, एफपीओ के माध्यम से उसे अपनी फसल का सही मूल्य दिलाया जाएगा।
  • वित्तीय वर्ष 2021-2022 से 2031-32 तक परियोजना के क्रियान्वयन हेतु राज्य सरकार पर समेकित रूप से 1,220.92 करोड़ रुपये का भार बढ़ेगा।

UP Kisan FPO Online Registration

उत्तरप्रदेश के किसानों को एफपीओ से जोड़ने के लिए एक आवेदन की प्रक्रिया से होकर गुजरना होगा फ़िलहाल राज्य सरकार के द्वारा आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना (Atmanirbhar Krishak Samanvit Vikas Yojana 2021) की घोषणा की गई है किसानों को एफपीओ से जुड़ने हेतु Online Registration करना होगा या यह प्रक्रिया ऑफलाइन रहेगी इसकी जानकारी राज्य सरकार ने नहीं दी है ऑनलाइन आवेदन करने से सम्बंधित कोई भी जानकारी सामने आती है तो इस्सके बारे में इस पेज पर जानकारी को अवश्य ही बताया जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*